Hope?

Wounds over my body traveled to my soul and my heart echo’s pain and its melancholy shattered my strength like thousand broken pieces of mirror. Whenever I try to recollect those pieces, it hurts. Yeah, that’s why I stopped breathing hope.

Ghazal

दिल की हलचल को, बढ़ाने आया है मेरे घर के आगे, घर बनाने आया है दिल टूटा है, मगर होंसले को सलाम के हवाओं में चराग, जलाने आया है वो दोस्ती नहीं, कुछ और चाहता है जाम आँखों से मुझे, पिलाने आया है इंतज़ार, इंतज़ार और बस इंतज़ार वक़्त भी हमको, आजमाने आया है छूते... Continue Reading →

A Wish!

Who are we? What do we feel for each other? Why are we holding one another? Maybe, so that one cannot fall in the amidst of journey which we are traveling together without knowing our destiny. We seriously don't know what is between us. Sometimes We name it love, sometimes a mere attraction, and at... Continue Reading →

याद!

सुनो, तुम्हारा वो ख़त फरेब का जिसको तुमने इश्क़ का लिफाफा ओढ़ा कर मुझे सौंपा था, वो अब भी महफूज़ है मेरे पास, मैंने अपना बिखरा हुआ दिल भी अभी तक समेटा नहीं, जो तुमने ठोकर मार दिया था, ये मुझे अक्सर याद दिलाते हैं तुम्हारे दिल कि बदगुमानी का, ज़रा अपनी यादों को कंधे... Continue Reading →

अधूरा ख़त

सुनो, आज जी उदास है थोड़ा और इतना उदास की तुम्हारी तस्वीर भी मेरे चेहरे पर मुस्कुराहट का भरम नहीं पैदा कर पा रही है । मैंने कोशिश करी की तुम्हारे ख़तों से एक दफे फिर दिल लगा लूं, मगर उसके हर्फ़ों ने भी तुम्हारी खुशबू का दामन छोड़ दिया है । अभी कुछ उखड़ी... Continue Reading →

Ghazal

दर्द जब आएगा 'असीर' पहलू-ए-ज़िस्त में वक़्त थम जाएगा तुमको गुज़रना पड़ेगा !!

Ghazal

फासले होते हैं इश्क को मिटाने के लिए तू कभी इश्क तो कर फासला मिटाने के लिए !! तेरे रूठने से कभी शिकवा नही था जाना फिर कोई और आया तुझे मनाने के लिए !! मैं मुफ़लिसी से ताजमहल खड़ा कर दूंगा बाकी है सीने में मोहब्बत लुटाने के लिए !!  जाने क्यों दोस्तों ने... Continue Reading →

Up ↑